गुरुवार, 28 जुलाई 2011

अफ़साना



वो ज़ो अफ़साना-ए-गम सुनकर हंसा करते थे।
इतना रोये कि आंख का काज़ल निकल गया॥